इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक का औपचारिक शुभारम्भ |

पेमेंट बैंकों की श्रृंखला में एक नए इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (IPPB) की औपचारिक शुरूआत 1 सितम्बर, 2018 से हुई है. भारतीय डाक विभाग द्वारा स्थापित इस बैंक की स्थापना यद्यपि 17 अगस्त, 2016 को हो चुकी थी तथा राजपुर व रांची में दो शुरूआती शाखाओं की स्थापना के साथ इसका कार्य 30 जनवरी, 2017 को शुरू हो गया था,
अखिल भारतीय स्तर पर इसकी औपचारिक लांचिंग प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 1 सितम्बर, 2018 को नई दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में एक समारोह में की. इस अवसर पर एक स्मारक डाक टिकट भी प्रधानमंत्री ने जारी किया. बैंक का शुभारम्भ करते हुए प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि देशभर में 650 जिलों में इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक की शाखाएं उस दिन (1 सितम्बर, 2018 से) से कार्य करने | लगेंगी तथा देश के सभी 1:55 लाख घर दिसम्बर 2018 के अंत तक आईपीपीबी केन्द्र के रूप में परिवर्तित हो जाएंगे तथा डाकियों सहित लगभग तीन लाख डाककर्मी, बैंक कर्मियों की तरह काम करने लगेंगे.


इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक के लांचिंग के अवसर पर स्मारक डाक टिकट जारी करते हुए प्रधानमंत्री
इससे देश के कोने-कोने में वे सुदूर गाँवों में घर-घर बैंकिंग सेवा उपलब्ध हो सकेगी। तथा सबका भरोसेमंद डाकिया चलता फिरता बैंक बन जाएगा. प्रधानमंत्री के अनुसार इससे जन धन योजना के उद्देश्यों को प्राप्त करने में भी मदद मिलेगी. इससे सामाजिक व्यवस्था में बहुत बड़ा परिवर्तन होगा. आईपीपीबी को देश के लिए बहुत बड़ा नजराना बताते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि इसे देश के इतिहास में बहुत अभूतपूर्व व्यवस्था के तौर पर याद किया जाएगा. आपका बैंक आपके द्वार ही इस बैंक की टैगलाइन है, वोडाफोन से सम्बद्ध रहे।
सुरेश सेठी इस बैंक के प्रबन्ध निदेशक बनाए गए हैं. बैंक की ईक्विटी में 100 प्रतिशत हिस्सेदारी भारत सरकार की है. डाकघरों में संचालित लगभग 17 करोड़ बचत बैंक खाते इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक से सम्बद्ध हो जाएंगे. बचत खातों के साथसाथ चालू खातों के संचालन के अतिरिक्त धन स्थानांतरण व अन्य विभिन्न भुगतान इसके जरिए किए जा सकेंगे. बचत जमाओं पर 4 प्रतिशत की वार्षिक ब्याज इसके द्वारा देय होगी तथा किसी खाते में अधिकतम एक लाख रुपए की राशि इसमें जमा की जा सकेगी. ऋण देने का अधिकार पेमेंट्स बैंकों को नहीं होता,


इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक की शुरुआत -

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 1 सितंबर 2018 को | इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक' (आईपीपीबी) का शुभारम्भ किया. 31 दिसंबर 2018 तक देश के 1.55 लाख डाकघरों को इस बैंक से जोड़ने का महत्वाकांक्षी लक्ष्य है -

मुख्य बिंदुः -

* भारत सरकार द्वारा 100% इक्विटी स्वामित्व के साथ डाक विभाग के तहत स्थापित |
* 30 जनवरी 2017 को रांची और रायपुर में पायलट ऑपरेशन शुरू हुआ |
* सालाना 4% की बचत जमा ब्याज दर |
* 1 लाख तक की राशि जमा की जा सकती है।
* ऋण देने के लिए कोई प्रावधान नहीं |
* तीसरे पक्ष के वित्तीय सेवा प्रदाताओं के माध्यम से ग्राहक को ऋण और बीमा जैसी सेवाओं की सुविधा |
*सेवाओं में बचत और चालू खाते, धन हस्तांतरण, प्रत्यक्ष लाभ स्थानान्तरण, बिल और अन्य भुगतान शामिल |
* लगभग 17 करोड़ डाक बचत खातों को आईपीपीबी से जोड़ा जाएगा।
* ग्रामीण, शहरी और दूरदराज के इलाकों में मौजूदा 3,00,000 पोस्टमेन और ग्रामीण डाक सेवक घरों तक बैंकिंग सेवाएं पहुंचा सकेंगे।

No comments