प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नवम्बर 2018 में मुंबई में वैश्विक आर्थिक मंच (World Economic Forum-WEF) के सहयोग से बने चौथे औद्योगिक क्रांति केंद्र का शुभारंभ नई दिल्ली में किया.
वैश्विक आर्थिक मंच द्वारा अमरीका के सैन फ्रांसिस्को, जापान के टोक्यो और चीन के बीजिंग में औद्योगिक क्रांति केंद्र का शुभारंभ पहले ही किया जा चुका है.
प्रधानमंत्री के अनुसार चौथी औद्योगिकी क्रांति और आर्टीफिशियल इंटेलिजेंस के विस्तार से देश में स्वास्थ्य सेवाएं बेहतर होंगी और स्वास्थ्य पर होने वाले खर्च में कमी आएगी. इस केन्द्र का लक्ष्य केन्द्र सरकार, राज्य सरकारें, निजी क्षेत्र, अन्तर्राष्ट्रीय संगठन और सिविल सोसायटी के साथ मिलकर उपकरण बनाने पर काम करेगा जो सरकार के तकनीकी आधारित काम काज में वृद्धि लाएगा.
उद्योग 4.0 (Industries 4.0) विश्व में एक शक्ति के रूप में आगे आया है और इसे अगली औद्योगिक क्रांति कहा जा रहा है। यह मुख्यत: इंटरनेट ऑफ थिंग्स, बाधा रहित इंटरनेट कनेक्टिविटी, तीव्र गति वाली संचार तकनीकियों और 3D प्रिटिंग जैसे अनुप्रयोगों पर आधारित है.
स्किल इंडिया मिशन, स्टार्ट अप इंडिया और अटल नवाचार अभियान जैसी सरकार की योजनाएं युवाओं को नई और उभरती प्रौद्योगिकियों के लिए तैयार कर रही हैं. विश्व आर्थिक मंच के वर्तमान अध्यक्ष बोर्गे ब्रेन्डें हैं. भारत में पिछले 4 साल में इंटरनेट कवरेज 75 प्रतिशत था. इन वर्षों में भारत सरकार ने तीन लाख किलोमीटर से अधिक ऑप्टिकल फाइबर का विस्तार किया है |  

Post a Comment

Previous Post Next Post