/ / वायु सेना के बेड़े में 8 अपाचे हेलीकॉप्टर शामिल।

वायु सेना के बेड़े में 8 अपाचे हेलीकॉप्टर शामिल।

वायु सेना के बेड़े में 8 अपाचे हेलीकॉप्टर शामिल-

भारतीय वायु सेना की लड़ाकू क्षमता में वृद्धि सितम्बर 2019 में उस समय हुई, जब 8 लडाकू अपाचे एएच-64 ई (Apache-AH-64 E) हेलीकॉप्टर इसके बेड़े में औपचारिक रूप से शामिल कर लिए गए. अमरीका की बोइंग कम्पनी द्वारा निर्मित इन हेलीकॉप्टरों को पंजाब के पठानकोट एयरबेस पर 3 सितम्बर, 2019 को आयोजित समारोह में सलामी देकर वायु सेना के बेड़े में शामिल किया गया. बोइंग के एक अधिकारी ने इस समारोह में हेलीकॉप्टर की प्रतीकात्मक चाबी वायु सेना के तत्कालीन प्रमुख एयरचीफ मार्शल बी. एस. धनोआ, जो मुख्य अतिथि के रूप में समारोह में उपस्थित थे, को सौंपी. हेलीकॉप्टरों की पूजा भी इस समारोह में की गई. वायु सेना में यह हेलीकॉप्टर पुराने हो रहे एमआई-35 हेलीकॉप्टरों का स्थान लेंगे.

अमरीका की बोइंग कम्पनी द्वारा निर्मित अपाचे हेलीकॉप्टरों को अटैक के मामले में अत्यधिक शक्तिशाली माना जाता है. इसे लम्बे समय से अमरीकी सेना द्वारा इस्तेमाल किया जा रहा है.
यह हेलीकॉप्टर लादेन किलर के नाम से भी विख्यात है, क्योंकि वर्ष 2011 में अमरीका ने इसी हेलीकॉप्टर का इस्तेमाल पाकिस्तान में घुसकर अलकायदा प्रमुख ओसामा बिन लादेन को मारने के लिए किया था.

भारतीय वायु सेना के लिए ऐसा पहला अपाचे हेलीकॉप्टर बोइंग ने अमरीका में एरिजोना (Arizona) स्थित अपने निर्माण केन्द्र पर भारतीय वायुसेना के अधिकारियों को 10 मई, 2019 को सौंपा था.
बोइंग कम्पनी से 22 अपाचे एएच-64 ई हेलीकॉप्टर खरीदने के लिए सौदा भारत ने 2015 में किया था.
इनमें से आठ हेलीकॉप्टर भारत को प्राप्त हो चुके हैं तथा शेष 14 हेलीकॉप्टर विभिन्न चरणों में मार्च 2020 तक प्राप्त होने की सम्भावना है..
कई देशों को अब तक कुल मिलाकर लगभग 2100 अपाचे हेलीकॉप्टरों की आपूर्ति बोइंग द्वारा की जा चुकी है.

No comments