/ / नेशनल हेल्थ प्रोफाइल, 2019।

नेशनल हेल्थ प्रोफाइल, 2019।

नेशनल हेल्थ प्रोफाइल, 2019।

वर्तमान परिप्रेक्ष्य
  • 30 अक्टूबर, 2019 को केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने नेशनल हेल्थ प्रोफाइल, 2019 (National Health Profile, 2019) नामक रिपोर्ट को जारी किया।
  • यह इस वार्षिक रिपोर्ट का 14वां संस्करण है।

रिपोर्ट का विवरण
  • यह रिपोर्ट स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय, स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय के तत्वावधान में केंद्रीय स्वास्थ्य आसूचना ब्यूरो (CBHI : Central Bureau of Health Intelligence) ने तैयार की है।
  • यह रिपोर्ट जनसांख्यिकीय, सामाजिक आर्थिक, स्वास्थ्य स्थिति, स्वास्थ्य वित्त, मानव-संसाधान और स्वास्थ्य अवसंरचना जैसे प्रमुख निगरानी योग्य संकेतकों पर ठोस स्वास्थ्य सूचना प्रदान करती है।
  • इस रिपोर्ट में प्रदत्त सूचनाएं स्वास्थ्य के क्षेत्र में नीति निर्माण, कार्यान्वयन, शासन और विनियमन के लिए महत्वपूर्ण हैं।

प्रमुख आंकडे
  • इस रिपोर्ट के अनुसार, भारत में जन्म के समय जीवन प्रत्याशा' (Life Expectancy at Birth) वर्ष 1970-75 की अवधि में 49.7 वर्ष थी, जो वर्ष 2012-16 में बढ़कर 68.7 वर्ष हो गई है।
  • वर्ष 2012-16 के दौरान पुरुषों में जन्म के समय जीवन प्रत्याशा 67.4 वर्ष तथा महिलाओं में 70.2 वर्ष दर्ज की गई है।
  • वर्ष 2015 एवं वर्ष 2016 में भारत में कुल प्रजनन दर (IFR) 2.3 दर्ज की गई है।
  • भारत में वर्ष 2017 में प्रति 1000 जनसंख्या पर जन्म दर एवं मृत्यु दर क्रमशः 20.2 एवं 6.3 दर्ज की गई है।
  • वर्ष 2017 में उत्तर प्रदेश में प्रति 1000 जनसंख्या पर जन्म दर 25.9 दर्ज की गई है।
  • वर्ष 2017 में उत्तर प्रदेश में मृत्यु दर 6.7 दर्ज की गई है।
  • भारत में वर्ष 2017 में प्रति 1000 जीवित जन्म पर 'नवजात शिशु मृत्यु दर' (Infant Mortality Rate) 33 दर्ज की गई है।
  • वर्ष 2017 में उत्तर प्रदेश में नवजात शिशु मृत्यु दर 41 दर्ज की गई है।
  • वर्ष 2018 में मलेरिया के संक्रमण एवं उसके चलते मृत्यु के सर्वाधिक मामले छत्तीसगढ़ में दर्ज किए गए हैं।
  • भारत में काला अजार (Kala-azar) नामक रोग का कारक लीशमैनिया डोनोवानी' (Leishmania domovani) नामक परजीवी है।
  • भारत में काला अजार के सर्वाधिक मामले बिहार में दर्ज किए गए हैं।
  • भारत में इन्सेफेलाइटिस (Encephalitis) के संक्रमण एवं उसके चलते मृत्यु के सर्वाधिक मामले असम में दर्ज किए गए हैं।
  • वर्ष 2015-16 में GDP के प्रतिशत के रूप में स्वास्थ्य पर सार्वजनिक खर्च 1.02 प्रतिशत है।