मुंबई एवं हैदराबाद :  यूनेस्को के रचनात्मक शहरों के नेटवर्क में शामिल 
रचनात्मक शहरों का नेटवर्क

  • 'यूनेस्को' के रचनात्मक शहरों के नेटवर्क' (UCCN: UNESCO Creative Cities Network) का सृजन वर्ष 2004 में ऐसे शहरों के मध्य सहयोग को बढ़ावा देने के उद्देश्य से किया गया था, जिन्होंने आर्थिक-सामाजिक, सांस्कृतिक एवं पर्यावरणीय स्तर पर 'सतत विकास' (Sustainable Development) के एक रणनीतिक घटक (Strategic Factor) के रूप में रचनात्मकता (Creativity) को मान्यता प्रदान की है।
  • इस नेटवर्क में शामिल शहर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सक्रिय रूप से सहयोग करने तथा स्थानीय स्तर पर अपनी विकासात्मक योजनाओं के केंद्र में रचनात्मकता एवं सांस्कृतिक उद्योगों को स्थान देने के साझा उद्देश्य से मिलकर कार्य करते हैं।


रचनात्मक क्षेत्र

  • यूनेस्को के रचनात्मक शहरों के नेटवर्क में जिन 7 रचनात्मक क्षेत्रों को आच्छादित (Cover) किया गया है.

वे हैं : शिल्प एवं लोक कलाएं, मीडिया आर्ट, फिल्म, उिजाइन, पाक कला (Gastronomy), साहित्य और संगीत

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 31 अक्टूबर, 2019 को यूनेस्को की महानिदेशक ऑटे अजोले ने 66 नए शहरों को यूनेस्को के रचनात्मक शहरों का दर्जा प्रदान किया।
  • इस प्रकार अब यूनेस्को के tantra antione रचनात्मक शहरों के नेटवर्क में शामिल शहरों की कुल संख्या बढ़कर 246 तक पहुंच गई है। नेटवर्क में शामिल भारतीय शहर
  • जिन 66 शहरों को रचनात्मक शहरों के नेटवर्क में शामिल किया गया, उनमें दो भारतीय शहर यथा मुंबई एवं हैदराबाद भी शामिल हैं।
  • मुंबई को फिल्म के क्षेत्र में, जबकि हैदराबाद को पाक कला के क्षेत्र में यूनेस्को के रचनात्मक शहरों के नेटवर्क में शामिल किया गया।
  • उल्लेखनीय है कि इसके पूर्व वर्ष 2015 में जयपुर (शिल्प एवं लोक कला की श्रेणी में) एवं वाराणसी (संगीत के क्षेत्र में) को और वर्ष 2017 में चेन्नई (संगीत के क्षेत्र में) को यूनेस्को के रचनात्मक शहरों के नेटवर्क में शामिल किया गया था।
  • उल्लेखनीय है कि 31 अक्टूबर को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने विश्व शहर दिवस' (World Cities Day) के रूप में घोषित किया है।
Previous Post Next Post