भारत - चीन के मध्य रणनीतिक आर्थिक वार्ता
पृष्ठभूमि
  • भारत एवं चीन के मध्य रणनीतिक आर्थिक वार्ता का गठन दिसंबर, 2010 में तत्कालीन चीनी प्रधानमंत्री वेन जियाबाओ की भारत यात्रा के दौरान किया गया था।
  • इसका गठन पूर्ववर्ती योजना आयोग और चीन के राष्ट्रीय विकास और सुधार आयोग (NDRC) द्वारा किया गया था।
  • योजना आयोग के स्थान पर नीति आयोग के गठन के बाद इस संवाद को अधिक गति प्रदान करते हुए आगे बढ़ाया गया है।

उद्देश्य
  • भारत-चीन के मध्य गठित इस रणनीतिक आर्थिक वार्ता' का उद्देश्य दोनों देशों के मध्य द्विपक्षीय व्यापारिक सहयोग को बढ़ावा देना है।

संरचना
  • भारतीय पक्ष की ओर से नीति आयोग और चीनी पक्ष से राष्ट्री विकास और सुधार आयोग वार्ता का नेतृत्व करते हैं।
  • इसके तहत प्रतिवर्ष दोनों देशों की राजधानियों में बारी-बारी से वार्षिक वार्ता का आयोजन किया जाता है।
  • वर्तमान परिप्रेक्ष्य
  • 7- 9 सितंबर, 2019 के मध्य नई दिल्ली में भारत और चीन के बीच छठी रणनीतिक आर्थिक वार्ता का आयोजन किया गया।

वार्ता के प्रमुख बिदु
  • भारतीय पक्ष का नेतृत्व नीति आयोग के उपाध्यक्ष डॉ. राजीव कुमार और चीनी पक्ष का नेतृत्व चीन के राष्ट्रीय विकास और सुधार आयोग के अध्यक्ष ही लिफेंग ने किया।
  • वार्ता में ढांचागत संरचना, संसाधन संरक्षण, ऊर्जा, औषधि, नीति समन्वय तथा प्रौद्योगिकी पर संयुक्त कार्यकारी समूहों की गोलमेज बैठकें संपन्न हुई।
  • वार्ता में दोनों देशों के बीच व्यापार असंतुलन को दूर करने के लिए ठोस कदम उठाने पर जोर दिया गया। साथ ही द्विपक्षीय व्यापार और निवेश के प्रवाह को सुविधाजनक बनाने पर सहमति व्यक्त की गई। 
  • ध्यातव्य है कि नवंबर, 2012 में नई दिल्ली में आयोजित दूसरी रणनीतिक आर्थिक वार्ता के दौरान अवसंरचना, पर्यावरण, नीति समन्वय, ऊर्जा और उच्च प्रौद्योगिकी पर 5 स्थायी संयुक्त कार्यसमूहों का गठन किया गया था।
  • 5वीं रणनीतिक आर्थिक वार्ता के पश्चात फार्मास्युटिकल्स पर छठे संयुक्त कार्य-समूह का गठन किया गया

अन्य महत्वपूर्ण तथ्य
  • उल्लेखनीय है कि 5वीं रणनीतिक आर्थिक वार्ता का आयोजन 14 अप्रैल, 2018 को बीजिंग में हुआ था।
  • 5वीं वार्ता के दौरान संयुक्त कार्य समूहों की प्रगति तथा परस्पर सहयोग के संभावित क्षेत्रों पर विचार-विमर्श किया गया था।
  • रणनीतिक आर्थिक वार्ता का गठन के बाद से द्विपक्षीय व्यावहारिक सहयोग को बढ़ावा देने में इसने एक प्रभावी तंत्र के रूप में कार्य किया है।
Previous Post Next Post