Sarvanam in Hindi : सर्वनाम के भेद, परिभाषा, उदाहरण Sarvanam ke bhed | sarvanam hindi grammar

सर्वनाम (Pronoun)

परिभाषा : संज्ञा के स्थान पर प्रयुक्त होने वाले शब्दों को सर्वनाम कहते हैं। जैसे- मैं, तुम, हम, वे, आप आदि शब्द सर्वनाम हैं। sarbnam ki paribhasa
sarvanam
'सर्वनाम' का शाब्दिक अर्थ है- सबका नाम। ये शब्द किसी व्यक्ति विशेष के द्वारा प्रयुक्त न होकर सबके द्वारा प्रयुक्त होते है तथा किसी एक का नाम न होकर सबका नाम होते हैं। 'मैं' का प्रयोग सभी व्यक्ति अपने लिए करते हैं, अतः 'मैं' किसी एक का नाम न होकर सबका नाम अर्थात सर्वनाम है। sarvanam ki paribhasha udaharan sahit
पं. कामता प्रसाद गुरु के अनुसार- “सर्वनाम वह विकारी शब्द है जो पूर्वापर संबंध से किसी भी संज्ञा के बदले आता है।"
उदाहरण- हम, तुम, मैं, वह, वे इत्यादि।
शाब्दिक दृष्टि से यदि देखा जाए तो सर्व अर्थात् सब 'नाम' अर्थात् नामों के स्थान पर जो शब्द आते हैं, उन्हें सर्वनाम sarvnaam कहा जाता है।
  • संज्ञा एवं सर्वनाम के मध्य जो मूल अंतर है वह यह है कि संज्ञा से केवल किसी नाम का बोध होता है, जैसे- मोहन। - 'मोहन' कहने से केवल मोहन का बोध होता है इससे संबंधित अन्य नामों का बोध नहीं होता है।
  • दूसरी तरफ 'वह' (सर्वनाम) कह देने पर घर, शहर, दुकान, पशु, पक्षी आदि का बोध हो जाता है।
अतः इससे स्पष्ट होता है कि सर्वनाम का क्षेत्र संज्ञा की अपेक्षा व्यापक होता है।

प्रश्न - सर्वनाम किसे कहते हैं?
उत्तर - जो शब्द संज्ञा शब्दों के स्थान पर प्रयोग किए जाते हैं , उन्हें सर्वनाम कहते हैं ।
जैसे - वह , आप, कोई, वे , किसी आदि।

सर्वनाम के उदाहरण

  • वह – दूर की किसी वस्तु को इंगित करने के लिए इस शब्द का प्रयोग किया जाता है।
  • मैं – इसका इस्तेमाल वक्ता स्वयं के लिए करता है।
  • यह – आस-पास की किसी वस्तु को इंगित करने के लिए इस शब्द का प्रयोग किया जाता है।
  • तू - इसका इस्तेमाल वक्ता की बात सुनने वाले के लिए किया जाता है। sarvanam ke udaharan

मूल सर्वनाम

हिंदी के मूल सर्वनाम (Sarvanam in Hindi) 11 है।
  • मैं
  • तू
  • आप
  • यह
  • वह
  • जो
  • सो
  • कौन
  • क्या
  • कोई
  • कुछ

सर्वनाम के भेद

सर्वनाम के छः भेद बताए गए हैं (sarvanam ke bhed) sarvanam ke bhed
  1. पुरुषवाचक सर्वनाम
  2. निश्चयवाचक सर्वनाम
  3. अनिश्चयवाचक सर्वनाम
  4. सम्बन्धवाचक सर्वनाम
  5. प्रश्नवाचक सर्वनाम
  6. निजवाचक सर्वनाम
sarvanam ke prakar in hindi

पुरुषवाचक सर्वनाम (Personal Pronoun)

जिन सर्वनाम शब्दों का प्रयोग बात कहने वाले के स्थान पर, बात सुनने वाले के स्थान पर तथा जिसके बारे में बात की जा रही है उसके स्थान पर किया जाता है, उन्हें पुरूषवाचक सर्वनाम कहते हैं। उसने मुझे बताया कि तुम कल आने वाले थे वाक्य में तीन तरह के पुरुषवाचक शब्द आए हैं- उसने, मुझे और तुम। इसके अनुसार पुरुषवाचक तीन प्रकार के हैं- उत्तम पुरुष, मध्यम पुरुष एवं अन्य पुरुष।
  • उत्तम पुरुष मैं, हम, मैंने, हमने, मेरा, हमारा, मुझे,मुझको (इसके अंतर्गत लेखक या वक्ता आता है)।
  • मध्यम पुरुष तू, तुम, तुमने, तुझे, तूने, तुम्हें, तुमको, तुमसे, आपने, आपको
  • अन्य पुरुष वह, यह, वे, ये, इन, उन, उनको, उनसे, इन्हें, उन्हें, इससे, उसको

(क) उत्तम पुरुषवाचक
जिस सर्वनाम का प्रयोग बोलने वाला अपने लिए करे, उसे उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम कहते हैं, जैसे- मैं, हम, मुझे, हमारा आदि।
मैं एक धार्मिक व्यक्ति हूँ। इस वाक्य में जो व्यक्ति बात कर रहा है, वह स्वयं के बारे में बता रहा है। अतः इसमें उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम है।
मैंने आज नाश्ता नहीं किया है। इस वाक्य में 'कर्ता' कारक की वजह से मैं का का परिवर्तित रूप मैंने बनकर वाक्य में प्रयुक्त हआ है। इस वाक्य में भी जो व्यक्ति बात कर रहा है, वह स्वयं के बारे में बता रहा है। अतः इसमें भी मैं उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम है।
  • हमारा घर बहुत सुंदर है।
  • मैं प्रतिदिन सैर को जाता हूँ।
  • मैं रोज़ सवेरे 5 बजे प्रातः उठ जाता हूँ और व्यायाम करता हूँ।

(ख) मध्यम पुरुषवाचक
जिस सर्वनाम का प्रयोग बोलने वाला सुनने वाले के लिए करे, उसे मध्यम पुरुषवाचक सर्वनाम कहते हैं, जैसे- तू, तुम, तुम्हें, तुम्हार आदि।
  • तू छुट्टियों में क्या करेगा। 
  • तुम बहुत अच्छी हिंदी बोलते हो।
  • आपके सहयोग के बिना मैं यह सब नहीं कर पाऊंगा।
  • तुम्हारे पिताजी आ रहे है।
  • तुम कल स्कूल आने में देर कर दी थी।

(ग) अन्य पुरुषवाचक
जिस सर्वनाम का प्रयोग बोलने वाला सुनने वाले के अतिरिक्त किसी अन्य पुरुष के लिए करे उसे अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम कहते हैं, जैसे- वह, वे, यह, ये, इसने इत्यादि।
  • वह कल दिल्ली दर्शन को जाएगा। 
  • यह मेरा घर है।
  • वह मेरा घर नहीं है।
  • उन को तो कल आना था आज ही आ गया।
  • ये बहुत ही होनहार विद्यार्थी है।
  • यह कक्षा में सदैव प्रथम आता है।
  • उससे कोई भी प्रश्न पूछ लो वह हल कर देगा।

पुरुषवाचक सर्वनाम का आदरसूचक प्रयोग
नीचे दिए हुए वाक्य पढ़िए :
  • चाचाजी, आप कब आए?
  • गांधीजी महान नेता थे। वे सबसे मिलते थे।
पहले वाक्य में 'आप' मध्यम पुरुष सर्वनाम है। यह एक व्यक्ति (चाचा) के लिए आया है। वह व्यक्ति बोलने वाले व्यक्ति से उम्र में बड़ा और आदरणीय है। इसलिए उसके लिए 'तुम' सर्वनाम के बदले 'आप' सर्वनाम का प्रयोग किया गया है। अपने से उम्र, ज्ञान और पद में बड़े व्यक्ति से बात करते समय उसके लिए 'आप' सर्वनाम का प्रयोग किया जाता है। 'आप' सर्वनाम का प्रयोग हमेशा बहुवचन में होता है। sarvnam
दूसरे वाक्य-समूह में 'वे' सर्वनाम गांधीजी के लिए आया है। 'वे' अन्य परुष सर्वनाम 'वह' का बहुवचन है, पर यहाँ एक व्यक्ति (गांधीजी) के लिए आया है। अपने से बड़े या किसी महापुरुष के बारे में चर्चा करते समय उसके लिए 'वह' के बदले 'वे' या 'आप' सर्वनाम का प्रयोग होता है। यह भी सर्वनाम का आदरसूचक प्रयोग है।

निश्चयवाचक सर्वनाम (Demonstrative Pronoun)

निकट या दूर के व्यक्तियों या वस्तुओं का निश्चयात्मक संकेत जिन शब्दों से व्यक्त होता है, उन्हें निश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं।
जैसे- यह, वह, ये, वे।
  • यह मेरी पुस्तक है।
  • यह कार मनोज की है।
  • ये कपड़े रेखा के हैं।
  • वह उनकी मेज है।
  • ये मेरे हथियार हैं।
  • वे तुम्हारे आदमी हैं।
  • वह वहाँ खेल रहा है।
निश्चय वाचक सर्वनाम दो प्रकार की होती हैं।
  1. दूरवर्ती निश्चयवाचक सर्वनाम : अर्थात ऐसे सर्वनाम शब्द जो की किसी दूर की वाटू या व्यक्ति का बोध करता है। जैसे की – वो मेज बहुत भरी होगी.
  2. निकटवर्ती निश्चय वाचक सर्वनाम : ऐसे सर्वनाम शब्द जो की किसी निकट वाली वस्तु या व्यक्ति के होने का बोध कराती है। जैसे – यह मेरा भाई है जो की 10 वीं कक्षा इसी वर्ष उत्तीर्ण किया है।

प्रश्न - निश्चयवाचक सर्वनाम का उदाहरण बताइए।
उत्तर - निश्चयवाचक सर्वनाम का उदाहरण है - (यह, वह, ये, वे, आदि हैं।)
  • वह मेरा भाई है।
  • यह मेरी किताब है।

अनिश्चयवाचक सर्वनाम (Indefinite Pronoun)

जिन सर्वनामों से किसी निश्चित वस्तु का बोध नहीं होता उन्हें अनिश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं।
जैसे- कोई, कुछ।
  • कोई आ गया तो क्या करोगे?
  • कुछ कार्य हुआ है और कुछ शेष है।
  • द्वार पर कोई खड़ा है।
  • उसने कुछ नहीं लिया।
  • कोई गा रहा है।
  • कमरे में कुछ पड़ा है।
कभी-कभी कुछ 'शब्द-समूह' भी अनिश्चय सर्वनाम के रूप में प्रयुक्त होते हैं।
जैसे- 1. कुछ न कुछ, 2. कोई न कोई, 3. सब कुछ, 4. हर कोई, 5. कुछ भी, 6. कुछ-कुछ आदि।

संबंधवाचक सर्वनाम (Relative Pronoun)

जिस सर्वनाम से किसी दूसरे सर्वनाम से संबंध स्थापित किया जाय, उसे संबंधवाचक सर्वनाम कहते हैं।
जैसे- जो, सो, जैसा-वैसा, उसकी, जिसकी।
  • जो आया है, सो जायेगा यह ध्रुव सत्य है।
  • जो करेगा से भरेगा।
  • जैसा कर्म करोगे वैसा फल मिलेगा।
  • जो सोएगा, सो खोएगा, जो जागेगा, सो पावेगा। 
  • "जैसा करोगे वैसा भरोगे।"
  • जिसकी लाठी उसकी भैंस।
इन वाक्यों में जो, सो, जिसकी, उसकी आदि सम्बन्ध को प्रकट करने वाले हैं अतः ये सभी सम्बन्धवाचक सर्वनाम है।

प्रश्नवाचक सर्वनाम (Interrogative Pronoun)

प्रश्न करने के लिए प्रयुक्त होने वाले सर्वनाम शब्दों को प्रश्नवाचक सर्वनाम कहा जाता है।
जैसे- कौन, क्या, किसकी आदि प्रश्नवाचक सर्वनाम हैं। जिस वाक्य में प्रश्नवाचक सर्वनाम प्रयुक्त होते हैं, वह वाक्य प्रश्न बन जाता है।
  • कौन आया था? 
  • राम के पिता का नाम क्या है?
  • यह पुस्तक किसकी है?
  • भारत का प्रधानमंत्री कौन है?
  • वह क्या कह रहा था?
  • कानपुर से क्या लाना है?
  • बाहर कौन गया है?
  • दूध में क्या गिर पड़ा?
  • विद्यालय में कौन जा रहा है?
  • यह कलम किसकी है?
इन वाक्यों में 'कौन', 'क्या' तथा 'किसकी' कहकर 'व्यक्ति' तथा 'कलम' के बारे में प्रश्न किए गए हैं अतः ये प्रश्नावाचक सर्वनाम हैं।

निजवाचक सर्वनाम (Reflexive Pronoun)

निजवाचक सर्वनाम है- अपने आप। यह 'अपने आप', स्वतः, 'स्वयं' या 'खुद' के लिए प्रयुक्त सर्वनाम है। जैसे- यह कार्य मैं 'अपने आप' ही कर लूंगा।
ध्यान रहे कि यहाँ प्रयुक्त 'अपने आप' स्वयं के लिए प्रयुक्त है जो कि पुरुषवाचक मध्यम पुरुष आदरसूचक सर्वनाम 'अपने आप' से अलग है।
निजवाचक सर्वनाम 'अपने आप' का प्रयोग इन स्थितियों में होता है।
  • किसी संज्ञा या सर्वनाम के अवधारण/निश्चय के लिए
जैसे- मैं अपने आप वहीं से आया हूँ।
  • दूसरे व्यक्ति के निराकरण के लिए;
जैसे- वह औरों को नहीं, अपने को, सुधार रहा है।
  • सर्वसाधारण के अर्थ में;
जैसे- आप भला तो जग भला। अपने से बड़ों का आदर करना चाहिए।

निजवाचक सर्वनाम के उदाहरण
  • वह अपना काम अपने आप करती है।
  • अपने - 2 प्रश्न हल करो।
  • राम अपने पापा को समझाता है।
  • मनोज ने अपना मकान बेच दिया है।
  • मधु अपने मामा के घर गई।
  • यह अपना ही घर है।
यहां अपना, अपने आप, अपने - अपने आदि शब्द स्वयं कर्ता के लिए प्रयुक्त हुए हैं अतः इन्हे निजवाचक सर्वनाम कहते हैं।

प्रश्न - निजवाचक सर्वनाम कौन - से हैं?
उत्तर - स्वयं , खुद , अपने - आप निजवाचक सर्वनाम हैं ।

सर्वनाम : एक नजर में
1. पुरुषवाचक (a) उत्तम पुरुष - मैं; हम/हमलोग
(b) मध्यम पुरुष - तू, तुम, आप; तुमलोग, आपलोग
(c) अन्य पुरुष - यह, ये, वह वे; ये लोग, वे लोग
2. निश्चयवाचक (a) निकटवर्ती - यह, ये
(b) दूरवर्ती - वह, वे
3. अनिश्चयवाचक (a) प्राणि बोधक - कोई
(b) वस्तु बोधक - कुछ
4. सम्बन्धवाचक जो, सो
5. प्रश्नवाचक (a) प्राणि बोधक-कौन; कौन-कौन
(b) वस्तु बोधक-क्या; क्या-क्या
6. निजवाचक आप
  • नोट : जब 'यह', 'वह', 'कोई', 'कुछ', 'जो', 'सो' अकेले आते हैं तो सर्वनाम होते हैं और जब किसी संज्ञा के साथ आते हैं तो विशेषण हो जाते हैं।
जैसे-
  • यह आ गई। (यहाँ 'यह' सर्वनाम है।)
  • यह किताब कैसी है। (यहाँ 'यह' विशेषण है।)

उत्पत्ति के आधार पर सर्वनाम के प्रकार
  1. मौलिक सर्वनाम
  2. यौगिक सर्वनाम

मौलिक सर्वनाम किसे कहते हैं - सर्वनाम का जिस रूप में जन्म या उत्पत्ति हुई है उसे मौलिक सर्वनाम कहते हैं. मौलिक सर्वनाम की संख्या 11 होती है जो इस प्रकार है।
मौलिक सर्वनाम – यह, वह, मैं, तू, आप, जो, सो, कों, क्या, कोई, कुछ

यौगिक सर्वनाम किसे कहते हैं - जैसा की नाम में यौगिक शब्द जुड़ा हुआ है जिसका अर्थ है समूह. अर्थात जब मूल सर्वनाम पर लिंग, वचन, कारक आदि का प्रभाव पड़ता है तो यौगिक सर्वनाम बनता है।

सर्वनामों में लिंग

सर्वनाम शब्द के रूपों में लिंग के कारण कोई परिवर्तन नहीं होता। सर्वनाम शब्द स्त्री-पुरुष दोनों के लिए एक ही रूप में प्रयुक्त होते हैं। सर्वनाम शब्द का लिंग उसके साथ प्रयुक्त क्रिया से जाना जाता है या उस शब्द से जाना जाता है जिसके स्थान पर उसका प्रयोग हुआ हो।
जैसे –
  • ‘राम’ परिश्रम करता है, वह प्रथम आएगा। (यहाँ ‘वह’ पुल्लिग है।)।
  • ‘सीता’ परिश्रम करती है, वह प्रथम आयेगी। (यहाँ ‘वह’ स्त्रीलिंग है।)

सर्वनाम के रूप

उत्तम पुरूष ‘मैं’ के रूप
कारक एकवचन बहुवचन
कर्ता मैं, मैंने हम, हमने
कर्म मुझको, मुझे हमको, हमें
करण मुझसे हमसे
संप्रदान मेरे लिए हमारे लिए
अपादान मुझसे हमसे
संबंध मेरा, मेरे, मेरी हमारा, हमारे, हमारी
अधिकरण मुझमें, मुझ पर हममें, हम पर

मध्यम पुरूष ‘तू’ के रूप
कारक एकवचन बहुवचन
कर्ता तू, तूने तुम, तुमने
कर्म तुझको, तुझे तुमको, तुम्हें
करण तुझसे तुमसे
संप्रदान तेरे लिए तुम्हारे लिए
अपादान तुझसे तुझसे
संबंध तेरा, तेरे, तेरी तुम्हारा, तुम्हारे, तुम्हारी
अधिकरण तुझमें, तुझपर तुममें, तुम पर

अन्य पुरुष ‘वह’ के रूप
कारक एकवचन बहुवचन
कर्ता वह, उसने वे, उन्होंने
कर्म उसको उनको
करण उससे उनसे
संप्रदान उसके लिए उनके लिए
अपादान उससे उनसे
संबंध उसका, उसके, उसकी उनका, उनके, उनकी
अधिकरण उसमें, उस पर उनमें, उन पर

निश्चयवाचक ‘यह’ के रूप
कारक एकवचन बहुवचन
कर्ता यह, इसने ये, इन्होंने
कर्म इसको इनको
करण इससे इनसे
संप्रदान इसके लिए इनके लिए
अपादान इससे इनसे
संबंध इसका, इसके, इसकी इनका, इनके, इनकी
अधिकरण इसमें, इस पर इनमें, इन पर

अनिश्चयवाचक ‘कोई’ के रूपकर्ता
कारक एकवचन बहुवचन
कर्ता कोई, किसी ने किन्हीं ने

संबंधवाचक ‘जो’ के रूपकर्ता
कारक एकवचन बहुवचन
कर्ता जो, जिसने जो, जिन्होंने

सर्वनाम के विकारी रूप

विभिन्न कारकों में प्रयुक्त होने पर सर्वनाम शब्दों के रूप परिवर्तित हो जाते हैं। सर्वनाम का प्रयोग सम्बोधन में नहीं होता। इसके विकारी रूप हैं- मैंने, मुझको, मुझसे, हमने, हमको, हमसे, मेरा, हमारा, उसने, उसको, तुमने. तुमको, आपने, आपको, तुझे, तुम्हारा, तुमसे, इसने, इसको, किसको आदि।

सर्वनाम का पद-परिचय (Parsing of Pronoun)

किसी वाक्य में प्रयुक्त सर्वनाम का पद-परिचय देने के लिए पहले सर्वनाम का भेद, लिंग, वचन, कारक एवं अन्य पदों से उसका सम्बन्ध बताना पड़ता है।
जैसे:-
  • 1. मैं पुस्तक पढ़ता हूं।
मैं - सर्वनाम, पुरुषवाचक, उत्तम पुरुष, पुलिंग, एकवचन, कर्ता कारक, पढ़ना क्रिया का कर्ता।
  • 2. चाय में कुछ पड़ा है।
कुछ - सर्वनाम, अनिश्चयवाचक, पुलिंग, एकवचन, कर्मकारक, पड़ा क्रिया का कर्म।

सर्वनाम के रूपांतर

पुरुष, वचन व कारक की दृष्टि से सर्वनाम का रूपांतर होता है। लिंगभेद के कारण सर्वनाम में रूपांतर नहीं होता।
उदाहरणार्थ-
  • मैं जाता हूँ।, मैं जाती हूँ। - यहाँ पुल्लिग व स्त्रीलिंग दोनों के लिये समान रूप से मैं का प्रयोग हुआ है।
संज्ञा की ही भाँति सर्वनाम में भी दो वचन होते हैं- एकवचन, बहुवचन। सर्वनाम में सात कारक होते हैं, आठ नहीं। इसमें संबोधन कारक नहीं होता है। सर्वनामों में जब हम विभक्तियाँ/कारक चिह्न लगा देते हैं तो इनके रूप में विकृति उत्पन्न हो जाती है।
इस संदर्भ में निम्नांकित उदाहरण द्रष्टव्य हैं।
  • हम - हमें, हमारा
  • तुम - तुम्हें, तुमको, तुम्हारा
  • यह - इसे, इसने, इन्होंने, इससे, इनको
  • में - मुझे, मुझको, मेरा
  • वह - उसने, उसको, उसे, उससे, उसमें, उन्होंने, उनको
  • कौन - किसे, किसको, किसने
निम्नलिखित वाक्यों को पढ़कर सर्वनाम शब्द छाँटिए और उनके भेद लिखिए। सर्वनाम शब्द
वाक्य सर्वनाम भेद
आप क्या कर रहे हैं? क्या प्रश्नवाचक
यह खाना मेज पर रख दो। मेज पर निश्चयवाचक
मैं अपने आप घर चली जाऊँगी। अपने आप निजवाचक
वह, तुम और मैं बाजार जाएँगे। वह तुम और में पुरुषवाचक
मुझे कुछ काम करने जाना है। कुछ अनिश्चयवाचक


sarvanam

पुरुषवाचक सर्वनाम और निजवाचक सर्वनाम में अंतर

निजवाचक सर्वनाम का 'आप एवं पुरूषवाचक सर्वनाम का 'आप' अलग-अलग है। पुरूषवाचक का 'आप' किसी दूसरे के लिए आदर सम्मान प्रकट करने के लिए प्रयुक्त किया जाता है, जबकि निजवाचक का 'आप' कर्ता स्वयं के लिए करता है। जब हम निजवाचक में 'आप' का प्रयोग करते हैं तो उसका अर्थ स्वयं' या खुद' होता है।
अगर आपको किसी वाक्य में निजवाचक सर्वनाम या पुरुषवाचक सर्वनाम पहचानने में परेशानी हो तो, आपको उस वाक्य में 'आप' के स्थान पर स्वयं' या खुद' शब्द को प्रयोग में करके देखना चाहिए। अगर ऐसा करने से वाक्य के अर्थ में किसी तरह का परिवर्तन नहीं होता है तो, उस वाक्य में आप निजवाचक सर्वनाम होगा।

कुछ उदाहरण
आप कल वहां चले जाना। इस वाक्य में 'आप' का प्रयोग किसी अन्य व्यक्ति को संबोधित करने के लिए किया गया है। अगर हम इस वाक्य का अर्थ निकालें तो हमें समझ में आता है, कि किसी अन्य व्यक्ति को संबोधित करके यह कहा जा रहा है कि, 'आप कल वहां चले जाना। अतः इस वाक्य में 'आप' पुरुषवाचक सर्वनाम है।
मैंने यह चाय आप बनाई है। इस वाक्य में आप का प्रयोग करता किसी अन्य व्यक्ति को आदर देने के लिए या संबोधित करने के लिए नहीं कर रहा है, बल्कि इस वाक्य में 'आप' का प्रयोग कर्ता स्वयं के लिए कर रहा है।
अगर हम इस वाक्य में 'आप' की जगह स्वयं या खुद' शब्द को लगा करें तो वाक्य कुछ इस तरह बनेगा- मैंने यह चाय स्वयं बनाई है। आप की जगह स्वयं लगा देने से वाक्य के अर्थ में कोई परिवर्तन नहीं हुआ है अतः इस वाक्य में आप’ निजवाचक सर्वनाम है।

पुरुषवाचक सर्वनाम के उदाहरण
  • आप आजकल क्या पढ़ रहे हैं ? (आप - मध्यम पुरुष)
  • शिवानी हिन्दी की सुप्रसिद्ध उपन्यासकार हैं, आप बड़ी संवेदनशील हैं। (आप - अन्य पुरुष)

निजवाचक सर्वनाम के उदारण
  • मैं आप चली जाऊँगी। (आप प्रथम पुरुष)
  • तुम इसे आप ही करो। (आप-मध्यम पुरुष)
  • वह आप ही पढ़ लेगा। (आप - अन्य पुरुष)

सर्वनाम से संबंधित महत्वपूर्ण प्रश्न


1. संज्ञा के स्थान पर प्रयुक्त होने वाले शब्द क्या कहलाते हैं?
  • (a) सर्वनाम
  • (b) विशेषण
  • (c) काल
  • (d) क्रिया
(a) सर्वनाम

2. पुरुषवाचक सर्वनाम का भेद है
  • (a) उत्तम पुरुष
  • (b) मध्यम पुरुष
  • (c) अन्य पुरुष
  • (d) ये सभी
(d) ये सभी

3. अनिश्चयवाचक सर्वनाम है.
  • (a) कोई
  • (b) कुछ
  • (c) किसी
  • (d) ये सभी
(d) ये सभी

4. जैसी करनी, वैसी भरनी। रेखांकित अंश में सर्वनाम का कौन-सा भेद है?
  • (a) पुरुषवाचक
  • (b) सम्बन्धवाचक
  • (c) प्रश्नवाचक
  • (d) निजवाचक
(b) सम्बन्धवाचक

5. यह काम उन्हें अपने आप करने दो। रेखांकित अंश में सर्वनाम का कौन-सा भेद है?
  • (a) निश्चयवाचक
  • (c) निजवाचक
  • (b) मध्यम पुरुषवाचक
  • (d) प्रश्नवाचक
(c) निजवाचक

6. अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम है
  • (a) तू
  • (b) वह
  • (c) तेरा
  • (d) तुम
(b) वह

7. निश्चयवाचक सर्वनाम को अन्य किस नाम से जाना जाता है?
  • (a) निजवाचक सर्वनाम
  • (b) गणनावाचक सर्वनाम
  • (c) संकेतवाचक सर्वनाम
  • (d) सन्देहवाचक सर्वनाम
(c) संकेतवाचक सर्वनाम

8. 'वहाँ कौन जाएगा' वाक्य में प्रश्नवाचक सर्वनाम है?
  • (a) वहाँ
  • (b) कौन
  • (c) जाएगा
  • (d) इनमें से कोई नहीं
(b) कौन

9. 'जिसे भी देखू वही अपने काम में व्यस्त है' वाक्य में रेखांकित अंश कौन-से सर्वनाम हैं
  • (a) निश्चयवाचक
  • (b) सम्बन्धवाचक
  • (c) संकेतवाचक
  • (d) अनिश्चयवाचक
(b) सम्बन्धवाचक

10. जिन सर्वनामों से किसी वस्तु का निश्चित ज्ञान नहीं होता, वहाँ कौन-सा सर्वनाम होता है?
  • (a) प्रश्नवाचक सर्वनाम
  • (b) निजवाचक सर्वनाम
  • (c) अनिश्चयवाचक सर्वनाम
  • (d) सम्बन्धवाचक सर्वनाम
(c) अनिश्चयवाचक सर्वनाम

11. उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम के अन्तर्गत आता है.
  • (a) हम
  • (b) उनका
  • (c) वे
  • (d) उसकी
(a) हम

12. मुझे कल शहर जाना है। वाक्य में सर्वनाम शब्द है
  • (a) मुझे
  • (b) कल
  • (c) दिल्ली
  • (d) जाना
(a) मुझे

13. ......... चाह,....." राह। वाक्य में उचित सर्वनाम शब्द क्या होंगे?
  • (a) जो, वो
  • (b) जहाँ, वहाँ
  • (c) जैसा, वैसा
  • (d) जब, तब
(b) जहाँ, वहाँ

14. 'स्वयं' और 'आप' किस प्रकार के सर्वनाम है?
  • (a) निश्चयवाचक
  • (b) निजवाचक
  • (c) सम्बन्धवाचक
  • (d) पुरुषवाचक सर्वनाम
(b) निजवाचक

15. सर्वनाम की परिभाषा वाला विकल्प कौन-सा है?
  • (क) किसी व्यक्ति, वस्तु, स्थान आदि का नाम
  • (ख) सभी के नाम के स्थान पर प्रयुक्त शब्द को
  • (ग) शब्दों का सार्थक मेल
  • (घ) वाक्य में प्रयुक्त शब्दों को
(ख) सभी के नाम के स्थान पर प्रयुक्त शब्द को

16. सर्वनाम के ........ भेद हैं।
  • (क) पाँच
  • (ख) सात
  • (ग) छः
  • (घ) आठ
(ग) छः

17. इनमें से कौन-सा सर्वनाम का भेद नहीं है?
  • (क) पुरुषवाचक
  • (ख) निजवाचक
  • (ग) संबंधवाचक
  • (घ) गुणवाचक
(घ) गुणवाचक

18. पुरुषवाचक सर्वनाम के कितने भेद हैं?
  • (क) दो
  • (ख) तीन
  • (ग) चार
  • (घ) पाँच
(ख) तीन

19. पुरुषवाचक सर्वनाम का भेद इनमें से कौन-सा नहीं है?
  • (क) उत्तम पुरुषवाचक
  • (ख) निम्न पुरुषवाचक
  • (ग) अन्य पुरुषवाचक
  • (घ) मध्यम पुरुषवाचक
(ख) निम्न पुरुषवाचक

20. उत्तम पुरुष से संबंधित सर्वनाम कौन-सा है?
  • (क) आप
  • (ख) वह
  • (ग) हम
  • (घ) तुम
(ग) हम

21. अन्य पुरुष सर्वनाम इनमें से कौन-सा है?
  • (क) उसका
  • (ख) तुम्हारा
  • (ग) हमारा
  • (घ) हमें
(क) उसका

22. 'दरवाजे पर कोई खड़ा है।' रेखांकित अंश के सर्वनाम का भेद कौन-सा है?
  • (क) पुरुषवाचक
  • (ख) अनिश्चियवाचक
  • (ग) निजवाचक
  • (घ) निश्चयवाचक
(ख) अनिश्चियवाचक

23. 'संवेदना अपना काम स्वयं करती है।' रेखांकित अंश का सर्वनाम-भेद चुनिए।
  • (क) संबंधवाचक
  • (ख) पुरुषवाचक
  • (ग) निश्चयवाचक
  • (घ) निजवाचक
(घ) निजवाचक

24. 'जिसकी लाठी उसकी भैंस' रेखांकित अंश में सर्वनाम-भेद कौन-सा है?
  • (क) निजवाचक
  • (ख) निश्चयवाचक
  • (ग) संबंधवाचक
  • (घ) अनिश्चयवाचक
(ग) संबंधवाचक

2 टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

Post a Comment

और नया पुराने