आवश्यक कैलोरी ऊर्जा।

आवश्यक कैलोरी ऊर्जा -

एक सामान्य व्यक्ति को प्रतिदिन भोजन में 450 ग्राम कार्बोहाइड्रेट, 100 ग्राम प्रोटीन तथा 80 ग्राम वसा लेनी चाहिए।
कठिन शारीरिक परिश्रम करने वाले व्यक्ति को 600 ग्राम कार्बोहाइड्रेट तथा 420 ग्राम प्रोटीन लेनी चाहिए।
किसी भोजन में 100 ग्राम से जितनी ऊर्जा मिलती है/निकलती है, उसे 'कैलोरी मान' कहते हैं। बादाम में 655 कैलोरी/100 ग्राम, काजू में 596, मूंगफली में 567, सोयाबीन में 432, चना में 372, चावल में 347, गेहूँ में 344, मांस में 194, अण्डा में 173, दूध में 117 कैलोरी ऊर्जा प्रति 100 में होती है।

(i) मानसिक कार्य/श्रम करने वाले व्यक्ति (जैसे_ वैज्ञानिक, डॉक्टर, इंजीनियर) को- 3000 से 3200 किलो कैलोरी
(ii) मशीन चलाने वालों (टर्नर, मोटर ड्राइवर, वस्त्र उद्योग के मजदूर) को- 3500 किलो कैलोरी
(iii) आंशिक मशीनीकृत शारीरिक कार्य में लगे व्यक्ति (जैसे- यन्त्र बनाने वाले, कृषि मजदूर, फिटर) को 4000 किलो कैलोरी
(iv) कठिन शारीरिक परिश्रम करने वाले (जैसे- कुली, गोदी, मजदूर, आदि) को 4500 से 5000 किलो कैलोरी।
(v) गर्भवती महिला को- 2800 किलो कैलोरी ऊर्जा की आवश्यक होती है।
दूध को एक संतुलित या पूर्ण आहार माना जाता है लेकिन इसमें विटामिन-सी तथा आयरन नहीं पाये जाते, जबकि अन्य सभी अवयव एवं तत्व पाये जाते हैं। दूध का सफेद रंग दूध में उपस्थित– 'केसीन' प्रोटीन के कारण, हल्का पीला रंग (गाय का दूध)- राइबोफ्लेवीन (Riboflavin) के कारण (कहीं-कहीं कैरोटीन का उत्तरदायी माना गया है) तथा मीठापन– 'लैक्टोज' सुगर (Sugar- शर्करा) के कारण होता है।
केवल दूध का लगातार सेवन करते रहने से 'एनीमिया' (रक्त हीनता-लोहा की कमी के कारण) रोग हो जाता है।