विटामिन्स (Vitamins)



विटामिन : विटामिन का आविष्कार फंक (Funk) ने सन् 1911 ई. में किया था।
  • यह एक प्रकार का कार्बनिक यौगिक हैं, जिनकी बहुत ही कम मात्रा में आवश्यकता होती है। इनसे कोई कैलोरी प्राप्त नहीं होती, परन्तु ये शरीर के उपापचय (Metabolism) में रासायनिक प्रतिक्रियाओं के नियम के लिए अत्यन्त आवश्यक हैं। इसे रक्षात्मक पदार्थ भी कहा जाता है।
  • विलेयता या घुलनशीलता के आधार पर विटामिन दो प्रकार के होते हैं-
  1. जल में घुलनशील विटामिन- विटामिन-B एवं विटामिन-C
  2. वसा या कार्बनिक घोलकों में घुलनशील विटामिन- विटामिन-A, विटामिन-D, विटामिन-E एवं विटामिन-K
  • विटामिन B1, B2, B3, B4, B5, तथा B6, ऊर्जा संबंधित विटामिन हैं।
  • विटामिन B12 में कोबाल्ट पाया जाता है।
  • विटामिन B9, तथा B12, रक्त संबंधित विटामिन हैं।
  • हमारे शरीर की कोशिकाओं द्वारा नहीं हो सकता एवं इसकी पूर्ति विटामिन युक्त भोजन से होती है। तथापि, विटामिन D एवं K का संश्लेषण हमारे शरीर में होता है।
  • सूर्य के प्रकाश में उपस्थित पराबैंगनी किरणों द्वारा त्वचा के कोलेस्टेरोल (इर्गेस्टीरॉल) द्वारा विटामिन D का संश्लेषण होता है।
  • जीवाणुओं द्वारा हमारे कोलन में विटामिन K संश्लेषित होता है तथा वहाँ से उसका अवशोषण भी होता है।
विटामिन्स को 2 वर्गों में विभक्त किया गया है-
(i) वसा में घुलनशील तथा (ii) जल में घुलनशील।
(i) वसा में घुलनशील विटामिन्स- विटामिन ए, डी, ई और के।
(ii) जल में घुलनशील विटामिन्स- बिटामिन बी, सी।
Previous Post Next Post