डीएनए अनुक्रमण (DNA Sequencing)।

डीएनए अनुक्रमण (DNA Sequencing)

DNA में उपस्थित न्यूक्लियोटाइड क्षार (Nucleotide Bases) एडिनीन (A), थायमीन (T), साइटोसीन (C) तथा गुआनिन (G) को चरणबद्ध करने की क्रिया ही डीएनए अनुक्रमण कहलाती है।

इसके निम्नलिखित लाभ हैं:

  • मानव जीनोम योजना का एक बड़ा उदाहरण है: DNA अनुक्रमण का ज्ञान।
  • इसकी सहायता से विभिन्न आनुवंशिक बीमारियों (Genetic Diseases), जैसे: अल्जाइमर (Alzheimer's), सिस्टिक फाइब्रोसिस (Cystic Fibrosis), मायोटोनिक डिस्ट्रोफी (Myotonic Dystrophy) और कैंसर (Cancer) आदि से निजात पाने में सहायता मिलेगी।
  • जीन अनुक्रम के माध्यम से पशुधन की वंशावलियों को जानने में मदद मिलेगी।
  • इस प्रणाली की मदद से मानव जीन से संबंधित रोगों के कारणों का पता लगाया जा सकेगा, परंतु सभी रोगों का ज्ञान केवल जीन अनुक्रमण से संभव नहीं है।
  • पशुओं में रोगों से लड़ने वाली प्रजातियों का विकास किया जा सकेगा।
  • यह प्रणाली रोगों के उपचार के लिये नई विधियों का पता लगाने में उपयोगी सिद्ध होगी।
  • किसी भी व्यक्ति में रोग लक्षण दिखने के पूर्व ही उसकी रोकथाम की जा सकेगी।