दुनिया की सबसे ताकतवर खुफिया एजेंसीज।

दुनिया की इंटेलिजेंस एजेंसीज
भारत में हर साल 4 मार्च को नेशनल सेफ्टी-डे मनाया जाता है। हर देश एक ऐसा डिपार्टमेंट बनाता है, जो गुप्त रूप से देश की सुरक्षा का काम करते हैं।

आइए जानते हैं दुनियाभर की कुछ ऐसी ही खुफिया एजेंसियों के बारे में -

RAW-
रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (रों) की स्थापना सन् 1958 में की गई थी। इसका हेड ऑफिस नई दिल्ली में है। रों विदेशी मामलों, क्रिमिनल्स और टेररिस्ट्स के बारे में पूरी जानकारी रखती है। इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) भी देश की सुरक्षा के लिए काम करता है। इन दोनों एजेंसियों ने साथ मिलकर कई बड़े आतंकी हमलों को नाकाम किया है।


FSB-
फेडरल सिक्युरिटी सर्विस रूस की खुफिया एजेंसी है। इसकी स्थापना 12 अप्रैल 1995 को हुई थी। एफएसबी का मुख्यालय मॉस्को में है। सिक्युरिटी से जुड़े मामलों के अलावा एफएसबी बॉर्डर से जुड़े मामलों पर भी गहरी नजर रखती है।


MSS-
चीन की खुफिया एजेंसी मिनिस्ट्री ऑफ स्टेट सिक्युरिटी को वर्ष 1983 में बनाया गया था। यह एजेंसी काउंटर इंटेलिजेंस ऑपरेशंस और विदेशी खुफिया ऑपरेशंस चलाती है।


CIA-
सेंट्रल इंटेलिजेंस एजेंसी अमेरिका की इंटेलिजेंस एजेंसी है. इसकी स्थापना सन् 1947 में तत्कालीन राष्ट्रपति हेरी एटूमैन ने की थी। इसका मुख्यालय वॉशिंगटन के पास वर्जीनिया में स्थित है। सीआईए डायरेक्टर ऑफ नेशनल इंटेलिजेंस को रिपोर्ट करती है। साइबर क्राइम, आतंकवाद रोकने समेत सीआईए देश की सुरक्षा के लिए काम करती है।


DGSE-
यह फ्रांस की सिक्युरिटी एजेंसी है। ये दूसरे देशों की एजेसियों से काफी अलग है। इसका मुख्य काम है सरकार को आतंकी गतिविधियों से सावधान करना। 1982 में गठित इस -एजेंसी में करीब 5 हजार लोग काम करते हैं। ये एजेंसी लोकल पुलिस के साथ मिलकर भी काम करती है।


MOSSAD-

इजरायल की खुफिया एजेंसी MOSSAD को दुनिया की सबसे बेहतरीन इंटेलिजेंस एजेंसियों में गिना जाता है। इसकी स्थापना वर्ष 1949 में की गई थी। इसका डायरेक्टर सीधे प्रधानमंत्री को रिपोर्ट करता है। MOSSAD मुख्यतः आतंक विरोधी घटनाओं को अंजाम देती है और सीक्रेट ऑपरेशंस चलाती है, जिसका उद्देश्य देश की रक्षा करना होता है।


ISI-
पाकिस्तान की ये इंटेलिजेंस एजेंसी विश्व की सबसे शक्तिशाली एजेंसी मानी जाती है। ऐसा कहा जाता है कि पाकिस्तान में किसी की भी सरकार हो, वो ISI के आगे झुका रहता है। इसकी स्थापना सन् 1948 में हुई थी। सेना और सरकार दोनों ही इसके नीचे काम करते हैं। इसका मुख्यालय इस्लामाबाद में है। आईएसआई पर आए दिन आतंकवाद को बढ़ावा देने के आरोप लगते रहे हैं।
Previous Post Next Post