जनन-ग्रंथि (Gonads)


  • अंडाशय (Ovary) के द्वारा निम्न हार्मोनों का स्राव होता है।
  1. एस्ट्रोजेन (Astrogen) : यह अंडवाहिनी (Oviduct) के परिवर्द्धन को पूर्ण करता है।
  2. प्रोजेस्टेरॉन (Progesteron) : यह एस्ट्रोजेन से सहायोग कर स्तन-वृद्धि करने में सहायता करता है।
  3. रिलैक्सिन (Relaxin) : गर्भावस्था में यह अंडाशय, गर्भाशय एवं अपरा में उपस्थित रहता है। यह हॉर्मोन प्यूबिक सिंफाइसिक्स (public symphysix) को मुलायम करता है और यह गर्भाशय ग्रीवा (uterine cervix) को चौड़ा करता है, ताकि बच्चा आसानी से पैदा हो सके।
  • वृषण (Testes) से निकलने वाले हार्मोन को टेस्टोस्टीरॉन कहते हैं। यह पुरुषोचित लैंगिक लक्षणों के परिवर्द्धन को एवं यौन-आचरण को प्रेरित करता है।

Post a Comment

Previous Post Next Post