पीयूष ग्रंथि किसे कहते हैं? | कार्य | हार्मोन

पीयूष ग्रंथि किसे कहते हैं? | कार्य | हार्मोन


What-is-the-pituitary-gland-in-hindi

पीयूष ग्रंथि (Pituitary gland) कपाल की स्फेनाइड (Sphenoid) हड्डी में एक गड्ढे में स्थित होती है। इसको सेल टर्सिका (Cell turcica) कहते हैं। इसका भार लगभग 0.6 gm होता है। इसे मास्टर ग्रंथि के रूप में भी जाना जाता है।

पीयूष ग्रंथि से निकलने वाले हार्मोन एवं उनके कार्य निम्नलिखित हैं-
  • STH हार्मोन (Somatotropic hormone) शरीर की वृद्धि, विशेषतया हड्डियों की वृद्धि का नियंत्रण करती है। STH की अधिकता से भीमकायत्व (Gigantism) अथवा एक्रोमिगली (Acromegaly) विकार उत्पन्न हो जाते हैं, जिसमें मनुष्य की लम्बाई सामान्य से बहुत अधिक बढ़ जाती है। STH की कमी से मनुष्य में बौनापन (Dwarfism) होता है।
  • TSH हार्मोन (Thyroid Stimulating Hormone) थाइरॉइड ग्रंथि को हार्मोन स्रावित करने के लिए प्रेरित करता है।
  • ACTH हार्मोन (Adrenocorticotropic Hormone) एड्रीनल कॉर्टेक्स के स्राव को नियंत्रित करता है।
  • GTH हार्मोन (Gonadotropic Hormone) जनन अंगों के कार्यों का नियंत्रण करता है। यह दो प्रकार का है-
  • FSH हार्मोन (Follicle Stimulating Hormone) वृषण की शुक्रजनन नलिकाओं में शुक्राणु जनन में सहायता करता है। यह अंडाशय फॉलिकिल की वृद्धि में मदद करता है।
  • LH हार्मोन (Luteiniging Hormone) अंतराल कोशिका उत्तेजक हार्मोन-नर में इसके अभाव से अंतराली कोशिकाओं में टेस्टोस्टीरोन हार्मोन एवं मादा में एस्ट्रोजन (Estrogen) हार्मोन स्रावित होता है।
  • LTH हार्मोन (दुग्धजनक हार्मोन or Lactogenic Hormone) का मुख्य कार्य है, शिशु के लिए स्तनों में दुग्ध स्राव उत्पन्न करना।
  • ADH हार्मोन (Antidiuretic Hormone) के कारण छोटी-छोटी रक्त धमनियों का संकीर्णन होता है एवं रक्तदाब बढ़ जाता है। यह शरीर में जल-संतुलन को बनाये रखने में भी सहायक होता है।

Post a comment

Post a Comment (0)

Previous Post Next Post