थायरोक्सिन हार्मोन क्या है? | कार्य | कमी से होने वाले रोग

थायरोक्सिन (Thyroxin)


कार्य :

  • कोशिकीय श्वसन की गति को तीव्र करता है।
  • यह शरीर की सामान्य वृद्धि विशेषतः हड्डियों, बाल इत्यादि के विकास के लिए अनिवार्य है।
  • जनन-अंगों के सामान्य कार्य इन्हीं की सक्रियता पर आधारित रहते हैं। पीयूष ग्रंथि के हार्मोन के साथ मिलकर शरीर के जल-संतुलन का नियंत्रण करते हैं।

थायरॉक्सिन की कमी से होने वाला रोग :

  • जड़मानवता (Cretinism) रोग बच्चों में होता है, इसमें बच्चों का मानसिक एवं शारीरिक विकास अवरुद्ध हो जाता है।
  • मिक्सिडमा रोग यौवनावस्था में होता है। इस रोग में शरीर में उपापचय भली-भाँति नहीं हो पाता, जिससे हृदय-स्पंदन तथा रक्त-चाप कम हो जाता है।
  • हाइपोथाइरॉयडिज्म (Hypothyroidism) रोग लम्बे समय तक थायरॉक्सिन हार्मोन की कमी के कारण यह रोग होता है। इस रोग के कारण सामान्य जनन-कार्य संभव नहीं हो पाता। कभी-कभी इस रोग के कारण मनुष्य गूंगा एवं बहरा हो जाता है।
  • घेंघा (Goitre) रोग भोजन में आयोडीन की कमी के कारण होता है। इस रोग में थाइरॉयड ग्रंथि के आकार में बहुत वृद्धि हो जाती है।

थायरोक्सिन के आधिक्य से होने वाला रोग :

  • टॉनिक्स ग्वाइटर (Toxic goitre) में हृदय गति तीव्र हो जाता है, रक्त-चाप बढ़ जाता है, श्वसन-दर तीव्र हो जाती है।
  • एक्सोप्थैलमिया (Exophthalmia) नामक रोग में आँख फूलकर नेत्रकोटर से बाहर निकल आती है।

Post a comment

Post a Comment (0)

Previous Post Next Post