औषधियाँ क्या है ( What drugs ) ?


औषधियाँ (Drugs)
कोई भी पदार्थ जो किसी रोग को अभिज्ञानित (Diagnosis) करने, रोकने (Prevention), आराम पहुँचाने तथा उपचार (Cure) के उपयोग में काम आता है, औषधि कहलाता है |
औषधियों का वर्गीकरण :
औषधियों को सामान्यतया उनके गुणों के आधार पर निम्नलिखित वर्गों में विभाजित किया जा सकता है |
(1) एन्टीपायरेटिक्स या ज्वरनाशक (Antipyretics) -
ये शारीरिक दर्द तथा बुखार उतारने में लाभप्रद हैं। परन्तु लम्बे समय तक इन औषधियों का प्रयोग नहीं करना चाहिए, क्योंकि ये शरीर को कमजोर करती हैं।



उदाहरणार्थ, (i) ऐस्पिरिन, क्रोसिन, (ii) फिनैसिटिन, एन्टीपाएरिन, पायरोमीडोन |
(2) एनलजेसिक या पीड़ाहारी -
इन औषधियों का उपयोग दर्द को दूर करने में किया जाता है। एस्पिरिन पीड़ाहारी दवा है। अधिक दर्द का अनुभव न हो, इसके लिए मार्फीन, कोडीन, हीरोइन आदि नार्कोटिक्स (narcotics) औषधियों को उपयोग करते हैं। ये औषधियाँ नींद लाती हैं और बेहोशी उत्पन्न करती है |
(3) प्रतिरोधी (Antiseptics) -
प्रतिरोधी सूक्ष्म जीवों (bacteria) का विकास रोकते हैं या उनहें नष्ट कर देते हैं। जैसे- डिटोल, फिनोल, टिंक्चर आयोडीन क्रमशः घावों को धाने में, उनके उपचार में, रोगाणुनाशक एवं कीटाणुनाशक के रूप में काम आती है।
(4) एनटीबायोटिक्स या प्रतिजैविक (Antibiotics) -
ये औषधियाँ कुछ निश्चित जीवाणुओं के मोल्ड्स (molds), पंजाई (fungi) या बैक्टीरिया (bacteria) आदि से बनाई जाती है। ये औषधियाँ दूसरे जीवाणुओं के विरुद्ध कार्य करती है। माध्यम के सामान्य घटकों से सूक्ष्म जीवों द्वारा उत्पन्न कोई विलेय रासायनिक पदार्थ, जो अन्य सूक्ष्म जीवों की वृद्धि को रोक देता है अथवा नष्ट कर देता है प्रतिजैविक (antibiotic), कहलाता है।
कवकों द्वारा उत्पन्न प्रतिजैविकों में केवल पैनिसिलीन है, जो पहला ज्ञात एन्टीबायोटिक है, जिसका आविष्कार एलेक्जेन्डर फ्लेमिंग ने किया था। इसका उपयोग निमोनिया, ब्रोन्काइटिस तथा गले की खराश आदि के उपचार हेतु किया जाता है।
जीवाणुओं द्वारा उत्पन्न पहली एन्टीबायोटिक्स स्ट्रेप्टोमाइसिन का आविष्कार वैज्ञानिक वाक्समैन ने किया, जिसका उपयोग सर्वप्रथम टी.बी. रोग में किया गया।

No comments