विषाणु (VIRUS)।


  • तंबाकू के मोजाइक रोक का अध्ययन करने के दौरान रूसीवैज्ञानिक इवानोवस्की ने 1892 ई. में 'विषाणु की खोज की।
  • इनकी प्रकृति सजीव एवं निर्जीव दोनों से मिलती है अतः इन्हें 'सजीव-निर्जीव के बीच संयोजक कड़ी (connecting link) कहा जाता है।
  • 'वाइरस' शब्द Virum शब्द से बना है जिसका अर्थ विष होता है।
  • वाइरस मुक्त अवस्था में निर्जीव की तरह व्यवहार करते हैं परंतु किसी सजीव कोशिका में पहुँचते ही सक्रिय हो जाते हैं तथा एंजाइमों का विश्लेषण करने लगते हैं।
  • परपोषी प्रकृति (Parasitic nature) के आधार पर विषाणुओं का तीन प्रकार माना गया।
  • जिन विषाणुओं के न्यूक्लियिक अम्ल में RNA होता है, वे पादप विषाणु (Plant Virus) कहलाते हैं।
  • जिन विषाणुओं में DNA (कभी-कभार RNA भी) पाया जाता है वे जंतु विषाणु (Animal Virus) कहलाते हैं।
  • ऐसे विषाण जो सिर्फ जीवाणओं पर आश्रित रहते हैं तथा जीवाणुओं को मार डालते हैं, जीवाणुभोजी विषाणु (Bacteriophage Virus) कहलाते हैं।
  • रेट्रो-विषाणुओं में आनुवांशिक पदार्थ RNA होता है।
  • 1898 ई. में लोफलर एवं फ्रोस्य ने जानवरों में विषाणु जनित रोगों के संबंध में जानकारी जुटाने में महत्वपूर्ण सफलता प्राप्त की, तब इन जीवों को विषाणु (Virus) कहा गया।