खाद्य जाल (Food Web)
खाद्य श्रृंखला पारितंत्र में होने वाले खाद्य अथवा ऊर्जा प्रवाह का केवल एक ही पहलू प्रस्तुत करती है और उससे यह अर्थ निकलता है कि जीवों में एक सीधा, सरल, शेष से पृथक् संबंध होता है जो पारितंत्रों में शायद कभी नहीं होता है। पारितंत्र के भीतर परस्पर संबंधित अनेक खाद्य श्रृंखलाएँ हो सकती हैं और इससे खाद्य जाल का निर्माण होता है।


इस प्रकार खाद्य जाल किसी पारितंत्र में एक-दूसरे से संयोजित खाद्य शृंखलाओं का एक नेटवर्क है। एक जंतु विभिन्न खाद्य शृंखलाओं का सदस्य हो सकता है।
उदाहरण के लिये एक पौधा एक ही समय में अनेक शाकभक्षियों का भोजन हो सकता है, जैसे घास पर खरगोश अथवा टिड्डा या बकरी अथवा सभी निर्भर रहते हैं। इसी प्रकार एक शाकभक्षी विभिन्न मांसभक्षी प्रजातियों का भोजन हो सकता है।

Previous Post Next Post